Browse Jobs

Find jobs,employeement & career opportunities.

You will be satisfied to know that the title of a chapter in the use of truth in Gandhiji’s autobiography is Rajnistha

One of the many things that Corona virus has done is that it has also given us a new vision

Read More

They were thinking of the same mysterious immune system, the nature of which scientific information was later executed.

Immune system … The immune system of man is also the same marvel. He is well taken care of by

Read More

Surely Coronavirus will not be able to end mankind. We will survive. Our children will live.

Holocaust … In the last five hundred million years, the earth has been destroyed five times! The most widespread of

Read More

when this sun of the thirteenth april continues to sink, then I too will be included in your life’s most important place.

Anniversary … There has always been a dimension of self-pity in anniversaries. A shocking feeling. Why are everyone doing like

Read More

When Madhavrao Scindia was contesting against Atalji, he appealed to the people of Gwalior from the platform of Atalji, “You have the shame of the Scindia family.” And Atalji lost the election badly. However, after the death of Rajmata

# Scindia: cycle of history Jyotiraditya Scindia has joined the BJP more than Congressmen when he joined BJP. The grassroots

Read More

“तौहीन बाग महज संयोग नही है, बल्कि देश का सौहार्द बिगाड़ने का प्रयोग है”।

फंतासी और साइंस फिक्शन हॉलीवुड में ज्यादातर फिल्मों का निर्माण फंतासी और साई-फाई में होता है। फंतासी और साई-फाई:- वास्तव

Read More

खबसूरत खबसूरत सड़क का हाल बेहाल कर रखा है। खोदकर सड़क को रफू करके चलते बनते है।

Ratsasan उर्फ मैं हूँ दंडाधिकारी. तमिलफ़िल्म रिव्यु पियानो की धुन रोमेंटिक या रिवेंज की हो….दोनो ही स्थिति में कातिल बजती

Read More

बिल्कुल यही सीन असल पर्दे पर सन 2013 में घटित हुआ था। बस उसका स्थान आंध्र न होकर, दिल्ली था

Kपिल , जिसने तौहीन बाग में गोली चलाई थी। वह आपिया कार्यकर्ता है। तो आप के केजरू को “सरफरोश” फ़िल्म

Read More

कला कभी किसी की गुलाम नही रही, अगर किसी ने कैद करने की कोशिश की तो “वीर-ज़ारा” सरीखी फिल्मों के जरिए, लोगो तक पहुँची है। लेकिन समझदार के जरिए।

1997 में “म्युजिकली हिट” फ़िल्म “दिल तो पागल है” देने और लंबा ब्रेक लेने के बाद 2004 में यश चोपड़ा

Read More

“अगर फिल्मों में बॉडी बिल्डर हीरो, शर्ट नही उतारेंगे। तो क्या ऑडियंस को पता नही चलेगा। कि भाई की बॉडी है।”

  “अगर टाइगर श्रॉफ इस तरह की फिल्में भविष्य में करता रहा, तो बीड़ू टाइगर का भविष्य नही रहना। वैसे

Read More